अपनी आँखों से एक बार फिर से तू मुस्कुरा रहा है…

वो कब था जो तूने मेरी पलकों को अपनी नज़रों से छुआ था जो मैंने तेरी आवाज़ में ढूँढी थी अपनी दुनिया और हंस के मेरे दिल को गुदगुदा के रह गए थे तुम एक सोती हुई कोई याद मेरे तकिये के नीचे से खिसकती हुई महसूस होती है जिसे मैंने आज भी थाम के […]

पता नहीं!

पथरा गयी हैं वो दीवारें जिनमे हमारे होने से जान हुआ करती थी अनगिनत बार जब वो रात करवटें लेती थीं तो प्यार जवान हो रहा होता था या उसका दम घोंटा जा रहा था पता नहीं रातें तो अब भी गुजर रहीं हैं और दीवारें भी नईं-नईं हैं पर अब करवटों में मेरे साथ […]

जिसे तुम आज छोड़कर चले गए

जिसे तुम आज छोड़कर चले गए यार मैंने भी वो दुनिया देखी है उसे जिया है जिसे तुम आज छोड़कर चले गए नीली दीवारों के सामने रंग-बिरंगी बातें… जहाँ तुम बैठे हो और जिसे तुम अपना समझ बैठे हो वो जगह कभी मेरी और मेरे दोस्तों की थी जिसे तुम आज छोड़कर चले गए बंद […]

पुरानी हरामज़दगी जारी है…

अन्ना की अनशन बेचीं IPL का जलवा बेचा शांतिभूषण की CD बेचीं अरुणाचल CM का हेलीकॉप्टर बेचा हेलीकॉप्टर की खोज जारी है हमारे CM की गुमशुदगी पर ओबामा killed ओसामा भारी है, सबके ऊपर, प्रिंट, ऑनलाइन और इलेक्ट्रोनिक मीडिया की पुरानी हरामज़दगी जारी है… तू देख वही जो मैं चाहूँ बन जा जंगली, कर ले […]