आसिक मासूक हवै गया: When the Lover ‘becomes’ the beloved

आसिक मासूक हवै गया, इसक कहावै सोइ।  दादू उस मासूक का, अल्लाह आसिक होई।। (Aasik masook hawei gaya, isak kahawei soi Dadu us masook ka, Allah aasik hoi) ~दादू दयाल (Dadu Dayal) Love is not about ‘aur batao’ in the long nonchalant talks under the polluted skies where you can’t locate bright stars. It is […]

प्रोपोगेंडा अपना-अपना

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जा रहा है। दिवस मनाने से होता कुछ नहीं है। मदर्स डे, फादर्स डे, किस डे, हग डे, एनवायरनमेंट डे, अर्थ डे…. बहुत सारे दिवस हैं। ये सारे मदर-फ़ादर-किस-हग-टंग-ओरल-पुस्सी-डिक आदि प्रोपोगेंडा नहीं हैं। योग-आयुर्वेद-रामायण-महाभारत सब प्रोपोगेंडा है। बाईबिल किंग जेम्स अपने हिसाब से लिखवाते है तो वो ऑथेन्टिक है लेकिन वेद-पुराणों […]