अनस्ट्रैपिंग द ब्रा जस्ट टू क्विक: कोई लिमिट है इस ब्राँड के फ़ेमिनिज़्म की?

जसलीन कौर तो याद ही होगी आप सबको। और आप में से अधिकतर को खुद के धोती और ब्रा स्ट्रैप खोलकर फ़ेमिनिज़्म का नारा लगाकर कूद जाने का वाक़या भी याद होगा। कितनी स्वतंत्रता, कितना अभिमान, कितना न्यायप्रिय होने का भाव आपके अंदर जगा होगा! ‘परवर्ट’ को ‘नेम एण्ड शेम’ कर दिया। वाह! एक क़ानूनी […]

Akram Feroze: नाम, नक़्शे, कश्मीर की फोटो, संदेहास्पद आतंकी

लगभग डेढ़ साल पहले एक शख़्स से मिला था जो फक्कड़ क़िस्म का था। लेकिन सिर्फ फक्कड़ नहीं था। एक जूनियर, Pritesh, ने बताया था कि एक लड़का है जो सिर्फ एक साईकिल लेकर जहाँ मन होता है चला जाता है। किसी गाँव में महीने भर रुकता है, वहाँ कोई भी काम जिससे खाने भर […]

बाय डीफ़ॉल्ट

पुराने सालों की यादें थीं वो जो नए ज़माने के डिजीटल गलियारे में मुस्कुराती मिल गईं। दिल ने तो खँगाल फेंका था दोस्तों के समझाने पर। सबकुछ एक बार एक अंतिम बार देखा था। पूरी लाईब्रेरी को जिसकी हर किताब के हर पन्ने पर कहीं तुम्हारी उँगलियों के निशान तो कहीं तुम्हारीं होठों का लिप्स्टिक […]

FTII प्रोटेस्ट: मुझे तो पता ही नहीं था!

FTII के बारे में ज्यादा नहीं जानता। ये भी नहीं पता था कि वहाँ के विद्यार्थी अपने प्राचार्य/डायरेक्टर आदि को चुनते हैं। ये तो बिल्कुल नहीं पता था कि उनके द्वारा अपने डायरेक्टर को घेर लेना, तोड़-फोड़ करना सब क़ानूनी तौर पर जायज़ है। ये नहीं पता था कि सत्रह साल से कॉन्वोकेशन नहीं हुआ […]

धर्म के नाम पर 

सुबह सुबह जगो और लोगों का चूतियाप देखकर मन करता है सोते ही रह जाते। अभी एक चूतिया टाईप का पोस्ट दिखा ‘ओपन लेटर टू लॉर्ड शिव, डियर शिवा यॉर डिवोटीज़ कॉज़ ट्रैफ़िक जैम’। ओपन लैटर के चूतियापों के दौर में एक लेटर ये भी सही। ये लेटर चूतियापा इसीलिए है क्योंकि इसमें, काँवरिया जाम […]

श्री राधे माँ के पक्ष में 

कामसूत्र, भक्तिकाल के बाद बने मंदिर और गुफ़ाओं की कलाकृतियों के बाद हमारे हिंदू, या सनातन, धर्म से ‘सेक्स’ गायब ही हो गया था। आई मीन देयर वॉज़ नो सेक्स एट ऑल लेफ़्ट इन हिंदू वे ऑफ़ वरशिप। एंटर सेक्स क्रेविंग गुरूज़… एण्ड लिबरेटेड, डान्सिंग घर्मगुरू श्री राधे माँ… ओह या… या बेबी… यू हर्ड […]