जंतर-मंतर: प्रोटेस्ट के लिए निर्धारित जगह एक चुटकुला है

एक प्रजातंत्र में विरोध मुखर रूप से होना चाहिए जिसके लिए हर सड़क, हर गली, हर सरकारी कार्यालय के दरवाज़े के सामने की जगह उपलब्ध होनी चाहिए।

एक सीनियर पत्रकार के पास किसी नेता की 3000 सेक्स सीडी क्यों है?

आपके पास किसी की सेक्स सीडी आज के ज़माने में क्यों है जबकि क्लिप की सॉफ़्ट कॉपी फोन पर व्हाट्सएप्प आदि के ज़रिए मिल जाती है?

फ़ेसबुक लाइव (मल्टीपल स्ट्रीम): नैरेटिव मेकर मीडिया पर नया प्रहार

सूचना पूर्णरूपेण प्रजातांत्रिक हो गई है कि ये किसी के भी हाथों में जा सकती है, और किसी के भी हाथों से आ सकती है।

बिकी हुई पत्रकारिता के दौर की ख़बरों में प्रोपेगेंडा कैसे पहचानें

जब ख़बरों में अनावश्यक बातें और संबंध बनाए जाने लगें तो समझ जाइए कि वो प्रोपेगेंडा है।

पात्रों पर चर्चा: चुनाव, रचना, विकास साहित्य की विधाओं के संदर्भ में

सबसे ज़रूरी बात ये है कि पात्र हमेशा हमारे इर्द गिर्द होते हैं। उन्हीं से आप नए पात्र गढ़ते हैं। विशुद्ध कल्पना जैसी कोई चीज नहीं होती। हमारी कल्पना वास्तविकताओं के हिस्सों को इधर-उधर जोड़ने और तोड़ने से जन्म लेती है।

‘बकर पुराण’ – समकालीन संदर्भों और उनके अर्थपूर्ण अन्यथाकथन पर एक पाठ के रूप में

दूसरे कई व्यंग्यकारों से कहीं अलग, लेखक का मानवीय संवेदना से जुड़ा होना इस पाठ (किताब) को पठनीय और स्मरणीय बनाता है जहाँ व्यंग्यकार वृहद् समाज से दूर नहीं बल्कि उसी का हिस्सा है और जिसका व्यक्तित्व लक्षणालंकारिक (metonymic) है।