बिहिया कांड: काश कि वो किसी हिजड़ों की बस्ती से निकलती, वो बचा ली जाती

कुतूहल ने सारे मानवीय मूल्यों को ढक लिया है! आख़िर हम ये कर कैसे पाते हैं कि किसी लड़की को वस्त्रहीन करके एक भीड़ चल रही है, और कोई विडियो बना रहा है?

‘गोल्ड’ एक औसत दर्जे की फ़िल्म है

बात यह है कि हर फ़िल्म चालीस दिन में आप नहीं बना सकते। आपको एक बेहतर फ़िल्म के लिए शूटिंग पर जाने के पहले भी कई महीने लग सकते हैं। आप नकली मूँछ चिपकाकर और ‘एक’ को ‘ऐक’ बोलकर बंगाली नहीं बन सकते।

छात्रों के मुद्दे को मेरा समर्थन है, नेताओं को नहीं

छात्र एकता ज़िंदाबाद, लेकिन पिछले कुछ समय से किसी भी छात्र नेता ने खुद को साबित नहीं किया है कि वो क्यों नेता कहे जाने चाहिए, इसलिए, उनके लिए मेरा समर्थन नहीं है।

गौण मुद्दों के दौर में आपातकाल का हर रोज आना दोगलई का चरम है

जब मोदी इतना शक्तिशाली है ही, और वो मीडिया को दबा ही रहा है तो सबसे पहले तो ज़्यादा भौंकने वाले कुत्तों के मुँह पर जाली लगा देता, लेकिन कोई भारत में तो कोई वाशिंगटन पोस्ट में तमाम बातें लिख रहा है जो वो लिखना चाहता है।