अनुष्का को निकाल दें तो ‘सुई-धागा’ एक सपाट फ़िल्म है

इसके औसत होने की ज़िम्मेदारी पटकथा लिखने वाले और निर्देशक को लेनी चाहिए। इन दोनों जगहों पर फ़िल्म औंधे मुँह गिरी। इस फ़िल्म में पति-पत्नी के इस संघर्ष को दर्शक हिस्सों में, कहीं-कहीं, महसूस कर पाता है, जब कहानी भावनात्मक स्तर पर कभी-कभार आपको छू जाती हो।