सुनो रे पपुआ, संसद तुम्हारे बाप, दादी या परनाना की नहीं

घोटालों को नॉर्मलाइज़ करनेवाली पार्टी आजकल विथड्रावल सिम्पटम से जूझ रही है क्योंकि ‘जो घोटाले करते नहीं थे, उनसे घोटाले ‘हो जाते’ थे,’ उनका घोटालों से दूर होना कष्टदायक तो है ही।

वामपंथी लम्पट गिरोह चुप रहता है जब ‘गलत’ भीड़ ‘गलत’ आदमी की हत्या करती है

यहाँ न तो दलित मरा, न मुसलमान। उल्टे तथाकथित दलितों ने पुलिस वाले की जान ले ली क्योंकि उन्हें लगा कि वो जान ले सकते हैं। ये मौत तो ‘दलितों/वंचितों’ का रोष है जो कि ‘पाँच हज़ार सालों से सताए जाने’ के विरोध में है।

NIA द्वारा पकड़े आतंकी 25 किलो बारूद से चिकन मैरिनेट करने वाले थे

मोदी-विरोध में ये पत्रकार गिरोह इतना गिर चुका है कि कल को मोदी कह दे कि बच्चे अपने माँ-बाप की पैदाइश होते हैं, तो ये कहने लगेंगे कि ‘नहीं, हम तो माओ के प्रीजर्व्ड सेमेन से जन्मे हैं’।

UGC NET द्वारा उमैया खान का हिजाब उतरवाना एहतियात है, भेदभाव नहीं

हो सकता है कि उमैया के कानों में कोई इयरफोन नहीं रहा हो, लेकिन ये कौन तय करेगा कि बिना देखे ही उसे सत्य मान लिया जाए? फिर अगले पेपर में दस लोग हिजाब और बुर्क़े में आ जाएँ, दस लोग बंदर-टोपी पहनकर आ जाएँ और कहें कि ‘उसे तो नहीं रोका, हमें क्यों रोक रहे’, तो यूजीसी क्या कहकर अपना पक्ष रखेगी?

हारनेवालों के पुराने राग घिसकर फट चुके हैं

जहाँ कॉन्ग्रेस जीती है, और जहाँ सरकार बना रही है, वहाँ उसने सीधे सेंध मारी है। वो उसकी जीत कैसे नहीं है? जीतना किसको कहते हैं? यही जीत है। जीत जब अरुणाचल में सरकार बनाना है, जब कर्नाटक में सरकार बनाना है, ढाई साल बाद बिहार में सरकार बनाना है, पूरे नॉर्थ ईस्ट में सरकार बनाना है, तो फिर राजस्थान और मध्यप्रदेश भी जीत है।

एक बेकार, नकारा विपक्ष लोकतंत्र को बर्बाद करने की क्षमता रखता है

अगर विपक्ष इस बात पर फोकस्ड है कि किसने अपनी पत्नी से बात नहीं की, किसका बाप किसको छोड़कर चला गया, तो फिर चुनाव महज़ औपचारिक कार्यक्रम बनकर सिमट जाएँगे, जो होंगे ज़रूर पर उसका परिणाम कुछ भी नहीं होगा।

ब्राह्मण, ब्राह्मणवाद और अब ब्राह्मणवादी पितृसत्ता

जिस समाज को आप नहीं समझते, वहाँ बस अपनी विचारधारा से मिलते लोगों को साथ मिल लेने से आप ज्ञानी नहीं हो जाएँगे, न ही इन्क्लूसिव और प्लूरलिस्ट। आप वहाँ अपनी अज्ञानता के कारण जैक से जैकऐस बन जाएँगे।

डियर थरूर जी, मोदी के कपड़े खींचते हुए आप मोर बन जाते हैं

ऐसी बातें फ़्रस्ट्रेशन हैं, छटपटाहट है, अभिजात्यता की ऐंठ से जनित सोच है। ये अगर बाहर नहीं आएगा तो ये लोग सड़कों पर कुत्तों की तरह आते-जाते भाजपाइयों या उनके समर्थकों को दाँत काटने लगेंगे। दाँत काटने से बेहतर है कि अंग्रेज़ी में ऐसे बयान दो कि आदमी को समझने में दो मिनट लगे कि क्या बोल गया।

अपूर्वानंद की काल्पनिक योग्यता लाजवाब है

अरे प्रोफेसर साहब, इस्लामी और ईसाई आक्रांताओं ने ही इस धरती के सांस्कृतिक नरसंहारों की शुरुआत की थी। उसके बाद लगातार आप ही के तर्क के अनुसार इतिहास, धार्मिक प्रतीक, सामाजिक ताना-बाना, शिक्षा पद्धति सब बर्बाद की। इसी को भौतिक विध्वंस कहा जाता है।