प्राइम टाइम: गौरी लंकेश की हत्या पर पत्रकारों का त्वरित फ़ैसला

आपको कितने बाकी रंजनों, कुमारों, पाठकों, यादवों की ख़बर मिली थी? कितनी बार आधे घंटे के अंदर ये तय हो गया कि किस विचारधारा के लोग थे उन्हें मारने वाले? कितनी बार पुलिस ने वैसे लोगों को पकड़ा?