बाहुबली की जय!

बाहुबली देखी। आप भी देखिए। सीधी कहानी को कैसे प्रस्तुत किया जा सकता है, ये इस फ़िल्म से सीखा जा सकता है। कोई महान संदेश नहीं है। कोई बनावटीपना नहीं है। खाटी दक्षिण भारतीय फ़िल्म के सारे ज़ायके आपको मिलते हैं इसमें। फ़ंतासी, डेथ-डिफाईंग हिम्मत, ग्रैविटी-शेमिंग स्टंट्स सब गुँथे हैं जो दक्षिण भारतीय सिनेमा में […]

फिल्म रिव्यू: बेबी देखिए बत्रा जैसे हॉल में

बेबी देखिए जाकर। वो वाला बेबी नहीं और ना ही जानू वाला बेबी। अक्षय वाला बेबी देखिए। कसी हुई फिल्म है, मिनट भर भी बोर नहीं होंगे। सभ्य लोगों वाले हॉल में इसका आनंद नहीं आएगा वो भी गणतंत्र दिवस के आस पास होने पर। टुटपुँजिया हॉल या सिंगल स्क्रीन में देखिए। आपके स्टेटस को […]

अमेरिकन स्नाईपर: फ़िल्म समीक्षा

अभी अभी ‘अमेरिकन स्नाईपर’ देखी। अच्छी फिल्म है। मतलब पाईरेटेड में भी प्रिंट बढिया था। देखिए कुछ चीजों में हम नैतिकता, या मोरालिटी का लोड नहीं लेते। इन दोनों शब्दों के, चाहे अंग्रेज़ी हो या हिंदी, मेरे लिए कई समयों और जगहों पर मायने नहीं होते। हीरो भी, ब्रैडली कूपर, जिसने क्रिस कायल नामक मशहूर […]

PK movie review: पी के का नंगापन हमारे कपड़े उतार देता है

बहुत रिव्यू पढ़ चुके होंगे आप लोग। पी के की बात कर रहा हूँ। पी के नंगा उतरता है धरती पर और कपड़े पहन कर लौटता है। इस नग्नता और पहनावे के बीच जो होता है वह सांकेतिक तो है ही पर एक झन्नाटेदार तमाचा भी है। लेकिन सिर्फ तमाचा ही नहीं है, इसके और […]

Movie review: Haider is a must watch

When Shakespeare is the base and Vishal Bhardwaj the director and storyteller, you get to see masterpieces like Maqbool, Omkara and now, Haider. Haider is the last of the Bhardwaj’s Shakespearean trilogy and the director has just taken the tempo of his style of storytelling forward. For the starters, you ought to have some patience […]

Dedh Ishqiya movie review: Watch it for the dark humour, dialogues and great acting

Dedh Ishqiya is a dark comedy which is funny till the moment director abandons individuality and jumps on to become Abbas-Mastan. No doubt the dialogues are hilarious but stretching the story makes it mediocre. This is the issue with Bollywood for the last one decade or so, directors are not coming to terms with reality […]

Movie review: Anurag Kashyap’s That Day After Everyday

We have conditioned generations of women by saying them they were inferior physically and, in the process, we made them feel inferior mentally as well. Underestimating every achievement, colouring her walls pink and bringing them chocolate cakes, we made them look silly to make ourselves look better. And then, we say, “ Aah… that’s so girly…”

Movie Review: The Lunchbox

The Lunchbox is based on a simple plot where a lunchbox reaches an unintended destination and weaves an array of emotions between the two individuals involved. Some natural performances from protagonists Irrfan Khan, Nimrat Kaur and supporting actor Nawazuddin Siddhiqui coupled with great direction from Ritesh Batra gives you a film which is simple in […]