सुनो रे पपुआ, संसद तुम्हारे बाप, दादी या परनाना की नहीं

घोटालों को नॉर्मलाइज़ करनेवाली पार्टी आजकल विथड्रावल सिम्पटम से जूझ रही है क्योंकि ‘जो घोटाले करते नहीं थे, उनसे घोटाले ‘हो जाते’ थे,’ उनका घोटालों से दूर होना कष्टदायक तो है ही।

पर्दाफ़ाश: ईवीएम का शिंजो अबे कनेक्शन; हैक है, हारना एक नौटंकी है

वीवीपैट में मोदी ने जापानी तेल लगा हुआ काग़ज़ लगाया है जो कि तीन सेकेंड तक आपको एक सिंबल दिखाएगा जिस पर आपने वोट किया है, और फिर वो कमल में बदल जाएगा क्योंकि हवा में आते ही टेम्पररी इंक गायब हो जाता है। कभी गौर से वीवीपैट मशीन देखी है? वो ढका क्यों रहता है? क्योंकि उसमें अंदर में जापानी तेल रहता है।

मेरठ एक्सप्रेस-वे का सच: यूपीए सरकारों ने सबसे ज़्यादा काम किया

पाँच साल और बनने में लगते तो कॉस्ट थोड़ा और बढ़ता और कितने लोगों को ज़्यादा दिन काम करने का मौक़ा मिलता। आप कहेंगे कि वो मज़दूर कहीं और काम करेंगे! अरे! कहीं और कैसे काम करेंगे? रोज़ सड़कें थोड़े ही बनती हैं। उसको इतनी जल्दी बनवाया जाता रहा, तो कितने लोगों के पास काम नहीं रहेगा।