मानव और कहानियों की कहानी

जीने के लिए पेट को अन्न चाहिए, पानी चाहिए, हवा चाहिए। इसमें हमारे पूर्वजों ने कहानियाँ जोड़ दी। लेकिन ये नहीं बताया कि रोटी कपड़ा और मकान के साथ कहानी भी ज़रूरी है। बता देते तो भाँडा फूट जाता और हम आराम से पचास-सौ की टोलियों में रहते, दिन में तीन घंटे काम (शिकार) करते और आराम से रहते।

यात्रा वृत्तांत: मॉस्को और सेंट पीटर्सबर्ग जीवित स्मारक हैं इतिहास के

मॉस्को जाएँ तो दिन में तो पैदल चलें ही, रात में तो ज़रूर ही चलें। रात में ये शहर एक अलग ही तरह के रंग में दिखता है। क्रिसमस और नववर्ष की तैयारी में एलईडी लाइटों से सजाया हुआ शहर एक अलग छटा बिखेरता है। शहर के बीच, नदी में इमारतों के रंगों से नहाए हुए प्रतिबिम्ब एक बेजोड़ अहसास देते हैं।