ये फ़िल्म धोनी का वर्ल्ड कप वाला छक्का है, कितना भी देखो, मन नहीं भरता

धोनी कई बार देखी जाने वाली फ़िल्म है। धोनी हीरो है, इसमें कोई दोराय नहीं लेकिन एक हीरो के हीरो बनने में कितने लोगों की प्रत्यक्ष और परोक्ष ऊर्जा का हाथ होता है, ये बताता है इस फ़िल्म का निर्देशन। उन हिस्सों को हटाकर जो इसे या तो बोरिंग बना देते, या फिर बेवजह स्क्रीन टाइम लेते, नीरज पांडे ने बेहतरीन फ़िल्म परोसी है।

सुशांत सिंह को अगर अगले साल सारे अवार्ड में बेस्ट एक्टर चुना नहीं जाता तो ये इस फ़िल्म इंडस्ट्री और उन अवार्डों का दुर्भाग्य होगा। उसकी मेहनत उसके बोलने के लहजे से लेकर, चलने, कपड़े पहनने और क्रिकेट के शॉट्स खेलने में झलकती है। चेहरा हटा दो तो वही धोनी है।

पूरी कास्ट ने बिहार में बोली जाने वाली हिंदी को टोन ख़ूबसूरती से पकड़ी है। कहीं भी नहीं लगता की सीखा होगा, या ज़बरदस्ती का बिहारी बन रहे हैं। एक अलग तरह का अफर्टलेस फ्लो है डायलॉग में। कई बातें हम जानते हैं कि क्या होगा, लेकिन ये ऐसी फ़िल्म है कि आपको फिर भी दोबारा, तिबारा, चौबारा देखने का मन करेगा।

वो इसलिए नहीं कि ये धोनी के बारे में है। बल्कि इसलिए कि कहानी कहने में जो दोस्त, परिवार, चाहने वालों की संवेदना, पात्रों को गढ़ने में की गई मेहनत, कहानी का लंबा होते हुए भी कसाव के साथ होना, आदि जब स्क्रीन पर दिखते हैं तो आपको लगता है कि एक बायोपिक शायद ऐसे ही बननी चाहिए। मुझे मैरी कॉम की बायोपिक याद आती है जो कि एक औसत निर्देशन के कारण एक औसत फ़िल्म बन कर रह गई।

बैकग्राउंड स्कोर सुनिए तो आप सुन नहीं पाएँगे क्योंकि वो एक तरह से स्क्रीनप्ले के साथ घुलमिल गया है। गानों का कोई औचित्य इन फ़िल्मों में होता नहीं लेकिन फिर भी डाल दिए जाते हैं। ये फ़िल्म अपने गानों के बग़ैर भी वैसी ही रहती।

सुशांत सिंह शायद इंडस्ट्री के सबसे ज्यादा अंडररेटेड एक्टर्स में एक हैं। लेकिन ये अदाकारी उनके जीवन की शायद सर्वश्रेष्ठ अदाकारी होगी। उनकी मेहनत, इस फ़िल्म के लिए, उतनी ही है जितनी मेहनत धोनी ने भारतीय टीम का हिस्सा बनने के लिए की होगी।

लाजवाब एक्टिंग, बेहतरीन निर्देशन, कसी हुई कहानी और अच्छी एडिटिंग के कारण ये फ़िल्म आप धोनी के वर्ल्ड कप फ़ाइनल के छक्के की तरह बार बार देखना चाहेंगे, देखेंगे, और चाहेंगे कि फिर से देखूँ।….

One thought on “ये फ़िल्म धोनी का वर्ल्ड कप वाला छक्का है, कितना भी देखो, मन नहीं भरता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *