सर्वहारा क्रांति में किस सर्वहारा को सत्ता मिली?

हर विचारधारा का एक समय होता है, उसके बाद वो मर जाती है, बीमार हो जाती है, या फिर नकार दी जाती है। समय बदलता है।

वामपंथी सूअरों, पिगलेट्स को पहचानिए, फिर कीचड़ में उतार कर भाग जाईए

ऐसे लोगों को लगता है कि गाँजा पीकर वो बॉब मारले हो जाएँगे, और सिगरेट (चूँकि सिगार पी नहीं सकते) पीकर चे ग्वेरा।

प्रिय गुरमेहर, तुम्हारे दस महीने पुराने विडियो में कुछ भी गलत नहीं है

मैं गुरमेहर को उस विडियो में ‘पाकिस्तान ने मेरे पिता को नहीं मारा, युद्ध ने मारा’ के लिए कुछ नहीं कह सकता क्योंकि उसके आगे और पीछे के संदेश पढने के बाद आपको पता चल जाएगा कि उसमें कुछ भी गलत या बुरा नहीं है।

वामपंथियों! अहिंसा परमो धर्मः धर्म हिंसा तथैव च

तुमने गाँजे, सेक्स और क्रांति के नाम पर बहुत दिन काट लिए। तुम्हारी क्रांति को हम क्रांति से काटेंगे।

प्राइम टाइम २६: वामपंथियों की चतुराई; और रवीश कुमार की ‘आध्यात्मिक चुप्पी’

वामपंथियों की चतुराई; और रवीश कुमार की उनके ‘अपर कास्ट हिन्दू मेल’ भाई द्वारा नाबालिग़ दलित के बलात्कार आरोपी होने पर ‘आध्यात्मिक चुप्पी’