सिनिकल लोग संवेदनशील होने का शॉल ओढ़कर मुद्दों के मज़े लेते हैं

सरकार तो यही चाहती है कि एक नेता बेहूदा बयान दे दे, लोग उसी में उलझे रह जाएँ कि क्या बकवास बोलता है। आप लोग हमेशा इसी में उलझकर रह जाते हैं।

संवेदना, ‘कूल’ संवेदना और असम हिंसा

असम हिंसा में चौरासी लोग मर चुके हैं, और ये ऑफिशियल गिनती है। कल कुछ घरों में आतंकियों ने आग भी लगा दिया। कोकड़ाझाड़ और शोनितपुर में भी क़त्लेआम हुआ। मीडिया को एक दिन देर से ख़बर लगी च च च! बेचारे बहुत व्यस्त थे, वो चुनाव भी तो हुआ था। मीडिया की एक ज़िम्मेदारी […]