डियर थरूर जी, मोदी के कपड़े खींचते हुए आप मोर बन जाते हैं

ऐसी बातें फ़्रस्ट्रेशन हैं, छटपटाहट है, अभिजात्यता की ऐंठ से जनित सोच है। ये अगर बाहर नहीं आएगा तो ये लोग सड़कों पर कुत्तों की तरह आते-जाते भाजपाइयों या उनके समर्थकों को दाँत काटने लगेंगे। दाँत काटने से बेहतर है कि अंग्रेज़ी में ऐसे बयान दो कि आदमी को समझने में दो मिनट लगे कि क्या बोल गया।

मेरठ एक्सप्रेस-वे का सच: यूपीए सरकारों ने सबसे ज़्यादा काम किया

पाँच साल और बनने में लगते तो कॉस्ट थोड़ा और बढ़ता और कितने लोगों को ज़्यादा दिन काम करने का मौक़ा मिलता। आप कहेंगे कि वो मज़दूर कहीं और काम करेंगे! अरे! कहीं और कैसे काम करेंगे? रोज़ सड़कें थोड़े ही बनती हैं। उसको इतनी जल्दी बनवाया जाता रहा, तो कितने लोगों के पास काम नहीं रहेगा।

प्रिय कॉन्ग्रेस, चुनाव जीतने हैं तो बिहेव लाइक अ नेशनल पार्टी

‘राहुल’ को ‘राज’ का हुलिया देकर ‘हाय ब्रो, आप एम कूल’ कहने से पिक्चर हिट नहीं होगी।

ईमानदार पार्टी के नेता केजरीवाल वैश्विक नेता हैं, इनको दिल्ली से निकाला जाय

मुझे तो बस इंतज़ार है कि अरविन्द जी अपने काग़ज़ों के पुलिन्दे से कुछ ख़तरनाक टाइप का निकालेंगे और भाजपा को भ्रष्ट साबित कर देंगे जैसे कि शीला दीक्षित को कर दिया। मैं तो मिलकर भी आया हूँ शीला जी से, तिहाड़ में कंकड़ वासी दाल बीनती नज़र आईं। इसीलिए तो यूपी चुनावों में कभी दिखी नहीं।

योगी आदित्यनाथ एक स्टेटमेण्ट है कुछ पॉलिसी के लिए, कुछ पार्टियों और सरकारों के लिए

दिक़्क़त तब होगी जब वो गुण्डागर्दी को बढ़ावा देगा, दंगे कराएगा और अपने जूते हवाई जहाज़ से मँगवाएगा।

प्रिय मनोज तिवारी ‘मृदुल’, नाम के अंत में ‘कटु’ लगा लीजिए

आपको नहीं ही गाना था तो आप एक शिक्षिका, वो भी एक महिला, वो भी आपसे आग्रह किया था, एक मुस्कुराहट के साथ, को सप्रेम वैसी ही मुस्कुराहट के साथ मना कर देते।

भाजपा, काँग्रेस आदि पार्टियाँ सारे दानदाताओं के नाम क्यों नहीं बताती?

भाजपा ही एक ऐसी पार्टी है जिससे लोगों को आशा भी है कि इस मुद्दे पर पारदर्शिता की बात करे क्योंकि आजकल भ्रष्टाचार मिटाने का गर्भ धारण करने वाले गर्भपात कराते नज़र आ रहे हैं।

असम में भाजपा की सरकार और बुद्धिजीवियों का कोरस में विधवा-विलाप

आपका ‘इंटेलेक्ट’ अब बस ‘मोलेस्ट’ होने के लिए ही बचा है। आपका सारा ज्ञान अब किसी तरह कुछ भी सरकार विरोधी बोलकर दाँत निपोड़ कर हँस लेना है। और अपने कन्विनिएंट समय तथा लॉजिक के अनुसार जादवपुर, एसएफआई के विद्यार्थी नेता द्वारा किए ख़ुलासे आदि को बिल्कुल भी ध्यान ना देकर कुछ और बात छेड़ देनी है।