Photo poems from Jagriti Yatra 2013

शाम ही तो थी /Just an evening it was चरवाहा चला गया /The shepherd left for home रोज़ की तरह /Like every ordinary day भेड़ों को /Driving home हँकाते हुए /All the sheep गई एक और शाम /As another evening passed रंग बिखरती है /It splashes colours रोज़ मेरे छत पर /Everyday on my roof […]