मानव और कहानियों की कहानी

जीने के लिए पेट को अन्न चाहिए, पानी चाहिए, हवा चाहिए। इसमें हमारे पूर्वजों ने कहानियाँ जोड़ दी। लेकिन ये नहीं बताया कि रोटी कपड़ा और मकान के साथ कहानी भी ज़रूरी है। बता देते तो भाँडा फूट जाता और हम आराम से पचास-सौ की टोलियों में रहते, दिन में तीन घंटे काम (शिकार) करते और आराम से रहते।

लुटेरों, बलात्कारियों, आतंकियों की मेनस्ट्रीमिंग कब तक होती रहेगी?

हमलोग एक निकम्मी, मूर्ख, कायर और अव्यवस्थित जनसंख्या थे, जिन्हें महान बलात्कारियों, लुटेरों, और हत्यारों तक ने जीने का तरीक़ा सिखाया। यही तो कारण है कि ग़ुलामी का हर एक प्रतीक हमारे लिए पर्यटन स्थल है।