फ़ेसबुक पर सोए साहित्यकारों के नाम

सोशल मीडिया को समझिए और सेल्फी, प्रशंसा और आत्मुग्धता से ऊपर उठकर देश और समाज में हो रही बातों पर विचार रखिए। पूरे समाज की चर्चा का स्तर ऊपर उठाईए। आपको भी लाभ होगा, समाज को भी।

बैंग्लोर मोलेस्टेशन काण्ड, धोनी और ग़ायब होती चर्चा

विडियो देखिए। धोनी तो गए और साथ ही चर्चा में बैंगलोर काण्ड की जगह भी ग़ायब हो गई। सोशल डिस्कोर्स का शीघ्रपतन ऐसे ही होता है। अंग्रेज़ी के दर्शकों के लिए बता दूँ शीघ्रपतन इम्मेच्यॉर इजेकुलेशन को कहते हैं।

Pseudo-feminists’ fixation with sex and female liberation

I don’t quite understand how infidelity, kissing in open, having multiple divorces are ‘liberation’, ’empowerment’ and ’emancipation’ for women in India. I don’t quite get how the ‘failed, fragmented family and marriage system’ (yes I am using article ‘the’ and generalising) of West is looked upon as something divine and universal truth that must be […]

A rape is a rape

How does it affect or why is it a pain to accept that the girls who went to protest go to discos at night? How does it make it correct if a rape victim is characterless (who are you to decide that?)? What has character or profession to do with being raped? Is the rape of a prostitute any less traumatic then of a doctor or teacher (if at all you see a hierarchy)?