अपने सवालों का हल असफल मानवों के साहित्य में ढूँढना

हम वो हो जाना चाहते हैं जो कोई और था। व्यक्ति अपने अनेक वातावरणों से ली गई हवाओं के ख़ून तक में संचारित होने से वो बनता है जो वो बन जाता है। हमारा दौर, पहले के तमाम दौरों की तरह, मिश्रित और बनावटी वास्तवकिताओं का दौर है। सूचनाएँ आती हैं, जाती हैं, हम उनके हिसाब से, उन्हें प्रोसेस करते हुए खुद को उनके अनुरूप, विपरीत, या निरपेक्ष रहते हुए व्यक्तित्व में बदलाव लाते, या नहीं लाते हैं।