यात्रा वृत्तांत: मॉस्को और सेंट पीटर्सबर्ग जीवित स्मारक हैं इतिहास के

मॉस्को जाएँ तो दिन में तो पैदल चलें ही, रात में तो ज़रूर ही चलें। रात में ये शहर एक अलग ही तरह के रंग में दिखता है। क्रिसमस और नववर्ष की तैयारी में एलईडी लाइटों से सजाया हुआ शहर एक अलग छटा बिखेरता है। शहर के बीच, नदी में इमारतों के रंगों से नहाए हुए प्रतिबिम्ब एक बेजोड़ अहसास देते हैं।

मॉस्को नाइट: वरजिन्स मेन्स क्लब जहाँ लोग ऑर्गेज्म ख़रीदते हैं

गणिकाओं, नगरवधुओं और वेश्याओं वाले रेड लाइट इलाक़ों से पटे पड़े देश में, इसे अनैतिक नहीं माना जाना चाहिए। मेरे लिए एक स्ट्रिपर शरीर की मदद लेती है, जैसे एक नेता अपने मुँह का, वैज्ञानिक अपने दिमाग का, या एक शिक्षक अपने विषय के ज्ञान का। जिसके पास जो है, उसका प्रयोग करते हुए, किसी की ज़रूरतों को पूरा कर रहा/रही है।

मॉस्को नाइट: पापा’ज़ बार में ‘यू आर जॉनी डेप’ एवम् ‘मेरे पास तेल का कुआँ होती’

बार में डीके को मिली यूक्रेन की लड़की बाद में डीके की मित्र बन गई और शराब का नशा उतरने के बाद भी उसने कॉल किया, और मिलने आई। ये अपने आप में एक अच्छी बात थी। आगे क्या हुआ, वो यहाँ बताने में मुझे लज्जा आती है।