प्राइम टाइम: मुंबई ‘स्पिरिट’ से भीगीं मशालें फेसबुक पर ही जलती हैं!

स्पिरिट का नाम लेकर अपने काम पर निकल लेना बहादुरी नहीं, मजबूरी है। और मजबूर लोग आंदोलन नहीं करते। वो मेरी तरह फेसबुक पर पोस्ट लिखकर सो जाते हैं।